October 3, 2022

Muradnagar : बिजली विभाग अपने कमाईवीरों को बचाने के लिए, उच्चाधिकारी बहानेबाजी पर उतरे।

जिला गाजियाबाद के मुरादनगर के विद्युत विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के हमाम में अधिकारी कर्मचारी दोनों ही एक हालत में हैं। सभी का लक्ष्य की वेतन से ज्यादा धन बटोरा जाए। सभी एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं। उपभोक्ताओं द्वारा जिन कर्मचारियों अधिकारियों खिलाफ के भ्रष्टाचार की अनेकों शिकायतें की गई है। अपने कमाईवीरों बचाने के लिए, उच्चाधिकारी बहानेबाजी पर उतर आए हैं ।

कुछ विद्युत कर्मचारियों के खिलाफ अवैध कालोनियों में बिजली कनेक्शन, आम उपभोक्ताओं के उत्पीड़न की शिकायतें की गईं थीं । इस बारे मे पत्रकारों ने अधिशासी अभियंता विद्युत ब्रह्मानंद, से जानकारी मांगी। जिस पर उन्होंने ऐसे जवाब दिए। जिन्हें सुनकर आप दंग रह जाते कि एक उच्चाधिकारी ऐसा जवाब दे सकता है। अधिशासी अभियंता ने कहा आप की बिजली विभाग के दोनो कर्मचारी से साथ कुछ जाति दुश्मनी है इस लिए पत्रकार उनकी खबरे चला रहे हैं उन्होंने अवैध कनेक्शन के बारे में बताया कि वह धोखे से लग गया पता चलते ही कनेक्शन काट दिया गया।

दूसरे मामले में अधिकारी को जवाबदेही से बचाते हुए, सारा दोष एक लाइनमैन के सर पर मंड दिया है। मुरादनगर, क्षेत्र बिजली विभाग के छोटे से कर्मचारी से लेकर उच्चाधिकारियों तक के लिए कामधेनु बना हुआ है । सरकारी विभाग चारों तरफ से लूट मचा रहे हैं। घरेलू विद्युत संयोजन के लिए आम उपभोक्ता को महीनों धक्के खिलाए जाते हैं, और जब वह हताश निराश होकर विभागीय कर्मचारियों की शरण में पहुंचता है तो कुछ ही देर में समस्याओं का समाधान हो जाता है। पहले पावर लूम इंडस्ट्री निशाने पर होती थीं ।इस समय सबसे बड़ा कमाई का जरिया क्षेत्र में काटी जा रही नई अवैध कालोनियों है।

जिन्हें गाजियाबाद विकास प्राधिकरण अवैध घोषित कर चुका है। अधिकारी सब नियम, कायदे, कानूनों ,को ताक पर रखकर तुरंत कनेक्शन दे देते हैं ।क्योंकि कॉलोनाइजर को बिजली का कनेक्शन दिखाकर प्लाट बेचने में सहायता मिलती है। और बिजली अधिकारियों, कर्मचारियों, को मोटा पैसा ।यहां तक की जिन कार्यों के एस्टीमेट जमा कराने के नियम हैं। अपनी जेब गर्म होते ही वह उन्हें भी भूल जाते हैं और उच्चाधिकारी भी कोई कार्यवाही न कर आरोपियों को बचा लेते हैं । क्योंकि कमा कर शायद वह ऊपर भी भेज रहे हैं यही कारण है, कि गंभीर शिकायतों को भी अधिकारी संज्ञान में न लेकर उनके कूकृर्तों पर पर्दा डालने का प्रयास करते हैं, और सफल भी हो जाते हैं ।और फिर शिकायत करने वाले को भी कहीं फंसाने की तैयारी शुरू हो जाती हैं। दोनों के बीच मोबाइल पर हुए संदेशों के स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर भी चर्चा का विषय बने हुए है।

पत्रकार वसीम अहमद

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.